Ad Code

Responsive Advertisement

BHIC- 134 भारत का इतिहास : 1707-1950 || ( ASSIGNMENT July 2023–January 2024 ) BAG- Assignment Solution

Bhic- 134  भारत का इतिहास : 1707-1950
Course code: BHIC-134
Assignment Code: BHIC-134/ASST/TMA/2023-24
Marks: 100

नोट: यह सत्रीय कार्य तीन भागों में विभाजित हैं। आपको तीनों भागों के सभी प्रश्नों के उत्त्तर देने हैं।

सत्रीय कार्य - I

निम्नलिखित वर्णनात्मक श्रेणी प्रश्नों के उत्तर लगभग 500 शब्दों (प्रत्येक) में दीजिए। प्रत्येक प्रश्न 20 अंकों का है।

1.क्या 18वीं शताब्दी 'अंधकार युग” की चर्चा कीजिए।  ( 20 Marks )

Ans

परिचय:

18वीं शताब्दी को भारत के लिए "अंधकार युग" के रूप में वर्णित करना बहस और परिप्रेक्ष्य का विषय है। हालांकि यह सच है कि यह सदी भारतीय उपमहाद्वीप में महत्वपूर्ण चुनौतियों और उथल-पुथल से भरी हुई थी, लेकिन यह बड़ी जटिलता और बदलाव का भी दौर है। भारत में 18वीं शताब्दी में राजनीतिक, सामाजिक और आर्थिक विकास का मिश्रण देखा गया, जिसके नकारात्मक और सकारात्मक दोनों परिणाम थे। इस विषय पर एक संतुलित परिप्रेक्ष्य प्रदान करने के लिए हमें इस दौरान भारतीय इतिहास के विभिन्न पहलुओं पर विचार करने की आवश्यकता है। भारत के संदर्भ में 18वीं सदी को "अंधकार युग" के रूप में देखना एक जटिल और विवादास्पद दावा है। 18वीं शताब्दी के दौरान भारत की व्यापक समझ प्रदान करने के लिए इस अवधि के विभिन्न पहलुओं की जांच करना आवश्यक है। जबकि 18वीं शताब्दी में भारत में महत्वपूर्ण चुनौतियाँ और उथल-पुथल देखी गईं, इसे संपूर्ण "अंधकार युग" कहना सही नहीं है। आइए इस अवधि को अधिक विस्तार से जानें।

राजनैतिक अस्थिरता

कुछ लोग 18वीं शताब्दी को भारत के लिए "अंधकार युग" क्यों कह सकते हैं इसका एक प्रमुख कारण राजनीतिक अस्थिरता है जो इस अवधि की विशेषता है। मुगल साम्राज्य, जो कई शताब्दियों तक भारत में एक प्रमुख शक्ति रहा था, पतन की स्थिति में था। मुग़ल बादशाह कमज़ोर थे और अक्सर शक्तिशाली क्षेत्रीय अमीरों द्वारा नियंत्रित होते थे। केंद्रीकृत प्राधिकार में इस गिरावट के कारण उपमहाद्वीप विभिन्न क्षेत्रीय राज्यों और रियासतों में विखंडित हो गया।
18वीं शताब्दी में मराठा, सिख और विभिन्न नवाबों और राजाओं जैसे शक्तिशाली क्षेत्रीय शासकों का उदय हुआ, जिन्होंने भारत के विभिन्न हिस्सों में अपना अधिकार जताया। सत्ता के इस विकेंद्रीकरण के परिणामस्वरूप लगातार संघर्ष, सत्ता संघर्ष और युद्ध हुए। इन युद्धों का अक्सर लोगों पर विनाशकारी प्रभाव पड़ता था, जिससे आर्थिक कठिनाइयाँ और व्यापक पीड़ाएँ होती थीं।

आर्थिक चुनौतियाँ

18वीं सदी के भारत में आर्थिक स्थिति अस्थिरता और गिरावट की विशेषता थी। बार-बार होने वाले युद्धों और राजनीतिक अस्थिरता ने व्यापार और कृषि को बाधित कर दिया। कराधान अक्सर दमनकारी था, और स्थानीय शासकों ने अपने सैन्य अभियानों को वित्तपोषित करने के लिए अपनी प्रजा पर भारी कर लगाया। परिणामस्वरूप, कई क्षेत्रों को आर्थिक कठिनाई और गरीबी का सामना करना पड़ा।
इसके अतिरिक्त, यूरोपीय औपनिवेशिक शक्तियों, मुख्य रूप से ब्रिटिश, फ्रांसीसी, डच और पुर्तगाली के आगमन ने आर्थिक चुनौतियों को बढ़ा दिया। इन यूरोपीय शक्तियों ने आर्थिक गतिविधियों में संलग्न होकर व्यापारिक चौकियाँ और किले स्थापित किए, जो अक्सर भारतीय संसाधनों और बाजारों का शोषण करते थे।

राजनीतिक विखंडन और पतन

18वीं सदी में भारत में राजनीतिक विखंडन और गिरावट का दौर शुरू हुआ। मुगल साम्राज्य, जो कई शताब्दियों तक एक प्रमुख शक्ति रहा था, पतन की स्थिति में था। कमजोर मुगल बादशाहों और क्षेत्रीय सरदारों ने अपनी शक्ति का दावा करना शुरू कर दिया, जिससे केंद्रीय सत्ता का विघटन हो गया। इस विखंडन के कारण भारत के कई हिस्सों में राजनीतिक अस्थिरता और संघर्ष पैदा हो गया।

क्षेत्रीय शक्तियों का उदय

18वीं शताब्दी के दौरान, कई क्षेत्रीय शक्तियाँ उभरीं, जिनमें मराठा, सिख और विभिन्न स्वतंत्र राज्य शामिल थे। मराठा, विशेष रूप से, पश्चिमी और मध्य भारत में प्रभावशाली थे, उन्होंने एक संघ की स्थापना की और अपने क्षेत्रों का विस्तार किया। सिखों ने भी पंजाब में खुद को एक राजनीतिक और सैन्य बल के रूप में संगठित करना शुरू कर दिया। इन क्षेत्रीय शक्तियों ने इस अवधि के दौरान भारत के राजनीतिक परिदृश्य को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

यूरोपीय उपनिवेशवाद

18वीं शताब्दी के सबसे परिवर्तनकारी विकासों में से एक भारत में यूरोपीय औपनिवेशिक शक्तियों का बढ़ता प्रभाव था। ब्रिटिश, फ्रांसीसी, डच और पुर्तगालियों ने मुख्य रूप से व्यापार के उद्देश्य से व्यापारिक चौकियाँ और क्षेत्रीय आधार स्थापित किए। हालाँकि, उनकी उपस्थिति के अंततः भारत के लिए दूरगामी परिणाम होंगे।

विभाजन और सांप्रदायिक हिंसा

जबकि भारत को 1947 में स्वतंत्रता प्राप्त हुई, यह प्रक्रिया विभाजन की दर्दनाक घटना से प्रभावित हुई, जिसके परिणामस्वरूप उपमहाद्वीप भारत और पाकिस्तान में विभाजित हो गया। विभाजन के कारण बड़े पैमाने पर सांप्रदायिक हिंसा, विस्थापन और जीवन की हानि हुई। यह भारत के इतिहास में एक बेहद दर्दनाक और विवादास्पद अध्याय बना हुआ है, जो स्थायी निशान छोड़ रहा है और 'अंधकार युग' की कहानी में योगदान दे रहा है।

स्वतंत्रता के बाद की चुनौतियाँ

स्वतंत्रता प्राप्त करने के बाद, भारत को गरीबी, अशिक्षा और सामाजिक असमानता सहित कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा। देश को भूमि सुधार, सामाजिक न्याय और आर्थिक विकास से संबंधित मुद्दों से जूझना पड़ा। इनमें से कई मुद्दों को पर्याप्त रूप से हल करने में असमर्थता ने आबादी के एक महत्वपूर्ण हिस्से के लिए ठहराव और निराशा की भावना में योगदान दिया है।


2. 1857 से पूर्व के लोकप्रिय आन्दोलनों की प्रकृति पर चर्चा कीजिए।  ( 20 Marks )

Ans

परिचय:

1857 के भारतीय विद्रोह से पहले लोकप्रिय आंदोलन भारतीय उपमहाद्वीप के सामाजिक-राजनीतिक परिदृश्य को आकार देने में महत्वपूर्ण थे। इन आंदोलनों को उनकी विविधता, अंतर्निहित प्रेरणाओं और रणनीतियों द्वारा पहचाना जा सकता है। उन्होंने स्वतंत्रता के लिए व्यापक संघर्ष की नींव रखी और भारतीय लोगों की सामूहिक चेतना पर गहरा प्रभाव डाला। यह निबंध 1857 से पहले के लोकप्रिय आंदोलनों की प्रकृति की पड़ताल करता है, परिवर्तन के इन शुरुआती प्रयासों की प्रमुख विशेषताओं और महत्व पर प्रकाश डालता है।

1. क्षेत्रीय एवं विविध प्रकृति:
   
1857 से पहले के भारत में लोकप्रिय आंदोलन स्वाभाविक रूप से क्षेत्रीय और विविध थे। वे अक्सर विशिष्ट शिकायतों या स्थानीय मुद्दों के जवाब में उभरे। उदाहरण के लिए, केरल के मालाबार में 1921 का मप्पिला विद्रोह कृषि संबंधी मुद्दों और जमींदार उत्पीड़न के खिलाफ एक प्रतिक्रिया थी। सैयद अहमद बरेलवी के नेतृत्व में वहाबी आंदोलन ने भारत के उत्तर-पश्चिमी क्षेत्रों में मुसलमानों के बीच इस्लामी प्रथाओं को शुद्ध करने और शिकायतों को दूर करने की मांग की। इसी प्रकार, ओडिशा में पाइका विद्रोह ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा आर्थिक शोषण के कारण भड़का था। ये आंदोलन हमेशा समन्वित नहीं थे, बल्कि स्थानीय अन्यायों की प्रतिक्रिया थे, जो भारत के सांस्कृतिक और सामाजिक ताने-बाने की समृद्ध विविधता को दर्शाते थे।

2. सामाजिक और आर्थिक प्रेरणाएँ:

1857 से पहले के कई लोकप्रिय आंदोलन सामाजिक और आर्थिक प्रेरणाओं में निहित थे। उदाहरण के लिए, वर्तमान झारखंड में संथाल विद्रोह (1855-56) ब्रिटिश औपनिवेशिक सरकार की भूमि नीतियों के खिलाफ संथाल समुदाय के संघर्ष से प्रेरित था, जिससे उनके पारंपरिक जीवन शैली को खतरा था। हाजी शरीयतुल्ला के नेतृत्व में बंगाल में फ़राज़ी आंदोलन का उद्देश्य मुस्लिम किसानों की सामाजिक-आर्थिक स्थितियों में सुधार करना था। इस आंदोलन ने समाज के हाशिए पर मौजूद वर्गों द्वारा सामना की जाने वाली आर्थिक असमानताओं और अन्याय को रेखांकित किया, जिससे उनके सामूहिक कार्यों को बढ़ावा मिला।

3. धार्मिक और सांस्कृतिक आधार:

कई आंदोलन धार्मिक और सांस्कृतिक आधारों से ओत-प्रोत थे। गुरु घासीदास के नेतृत्व में मध्य प्रदेश में सतनामी आंदोलन एक धार्मिक और सामाजिक सुधार आंदोलन था जिसका उद्देश्य जाति व्यवस्था को चुनौती देना और सामाजिक समानता को बढ़ावा देना था। संन्यासी विद्रोह की जड़ें तपस्वी संप्रदायों के धार्मिक उत्साह में थीं, जिन्होंने बंगाल में ब्रिटिश नीतियों का विरोध किया था। इन आंदोलनों ने जनता को एकजुट करने और पहचान और उद्देश्य की भावना को बढ़ावा देने के लिए सांस्कृतिक और धार्मिक प्रतीकवाद का इस्तेमाल किया।

4. ब्रिटिश नीतियों का विरोध:

1857 से पहले के अधिकांश लोकप्रिय आंदोलनों में एक सामान्य सूत्र ब्रिटिश औपनिवेशिक नीतियों के खिलाफ प्रतिरोध था। 1793 का स्थायी बंदोबस्त, जिसके कारण बंगाल, बिहार और ओडिशा में जमींदारी सम्पदा का निर्माण हुआ, कृषि असंतोष का एक प्रमुख स्रोत था, जिसके कारण नील विद्रोह और दक्कन दंगे जैसे आंदोलन हुए। चूक के सिद्धांत और विलय की नीतियों ने स्थानीय शासकों को और अधिक नाराज कर दिया, जिसके परिणामस्वरूप मराठों का विद्रोह और कर्नाटक युद्ध हुए।

5. नेतृत्व और गतिशीलता:

इन आंदोलनों का नेतृत्व अक्सर करिश्माई नेताओं द्वारा किया जाता था जिन्होंने जनता को संगठित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। कित्तूर की रानी चेन्नम्मा, कुँवर सिंह और रानी अवंतीबाई जैसे नेताओं ने विभिन्न क्षेत्रों में अंग्रेजों के खिलाफ हथियार उठाए। ये नेता, हालांकि अपने प्रभाव में स्थानीय थे, प्रतिरोध के प्रतीक बन गए और दूसरों को संघर्ष में शामिल होने के लिए प्रेरित किया। इसके अतिरिक्त, कुछ आंदोलन, जैसे सूफी-प्रेरित फकीर-संन्यासी विद्रोह, अनुयायियों को एकजुट करने के लिए नेताओं के रहस्यवाद और धार्मिक अधिकार पर निर्भर थे।

6. सीमित सफलता और प्रतिशोध:

ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन की प्रकृति ने इन लोकप्रिय आंदोलनों के लिए स्थायी सफलता हासिल करना चुनौतीपूर्ण बना दिया। हालाँकि कुछ आंदोलनों ने अस्थायी जीत या रियायतें हासिल कीं, लेकिन समग्र शक्ति असंतुलन और अंग्रेजों की बेहतर सैन्य ताकत के कारण अक्सर क्रूर प्रतिशोध हुआ। 1919 में जलियांवाला बाग नरसंहार और संथाल विद्रोह का दमन औपनिवेशिक अधिकारियों द्वारा प्रतिरोध को कुचलने के लिए इस्तेमाल किए गए क्रूर तरीकों के उदाहरण हैं।

7. बौद्धिक और वैचारिक पूर्ववर्ती:

इनमें से कई लोकप्रिय आंदोलनों ने बाद के स्वतंत्रता संग्राम की बौद्धिक और वैचारिक नींव में योगदान दिया। सामाजिक सुधार, धार्मिक पुनरुत्थान और औपनिवेशिक उत्पीड़न के प्रतिरोध के विचार विकसित हुए और राजा राम मोहन रॉय, स्वामी विवेकानंद और बंकिम चंद्र चट्टोपाध्याय जैसे नेताओं और विचारकों द्वारा आगे बढ़ाए गए।

निष्कर्ष:

भारत में 1857 से पहले लोकप्रिय आंदोलनों की प्रकृति क्षेत्रीय विविधता, सामाजिक और आर्थिक प्रेरणा, धार्मिक और सांस्कृतिक आधार, ब्रिटिश नीतियों के खिलाफ प्रतिरोध, करिश्माई नेतृत्व, सीमित सफलता और बौद्धिक और वैचारिक नींव रखने की विशेषता थी। ये आंदोलन भारतीय लोगों की सामूहिक चेतना को आकार देने और स्वतंत्रता के लिए व्यापक संघर्ष की नींव रखने में सहायक थे, जिसकी परिणति 1857 के भारतीय विद्रोह में हुई। हालांकि इन शुरुआती आंदोलनों को अपने समय में पूरी सफलता नहीं मिली, लेकिन उन्होंने एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। औपनिवेशिक शासन के अन्यायों के बारे में जागरूकता बढ़ाने और भावी पीढ़ियों को स्वतंत्रता की लड़ाई जारी रखने के लिए प्रेरित करने में। इन शुरुआती नेताओं और उनके अनुयायियों का लचीलापन और दृढ़ संकल्प भारत के लंबे इतिहास में प्रतिरोध की स्थायी भावना और न्याय की तलाश का एक प्रमाण है।


सत्रीय कार्य - II

निम्नलिखित मध्यम श्रेणी प्रश्नों के उत्तर लगभग 250 शब्दों (प्रत्येक) में दीजिए। प्रत्येक प्रश्न 10 अंकों का है।

3. प्राच्यवादियों का मुख्य योगदान क्‍या था? चर्चा कीजिए ( 10 Marks )

Ans
ओरिएंटलिस्ट यूरोपीय विद्वानों और बुद्धिजीवियों का एक समूह था जो मुख्य रूप से 18वीं और 19वीं शताब्दी में उभरा। उन्होंने खुद को पूर्व, विशेषकर एशिया और मध्य पूर्व की संस्कृतियों, भाषाओं और इतिहास के अध्ययन के लिए समर्पित कर दिया। प्राच्यविदों के मुख्य योगदान असंख्य हैं और उनका विभिन्न क्षेत्रों पर गहरा प्रभाव पड़ा है। यहां उनके कुछ प्रमुख योगदान हैं:

1. भाषा और साहित्य अध्ययन:

प्राच्यवादियों ने प्राचीन पूर्वी ग्रंथों और साहित्य के संरक्षण, अनुवाद और अध्ययन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने संस्कृत, अरबी, फ़ारसी और चीनी जैसी भाषाओं के शास्त्रीय ग्रंथों को समझा और उनका अनुवाद किया, जिससे वे व्यापक दर्शकों के लिए सुलभ हो गए। उदाहरण के लिए, सर विलियम जोन्स ने कई संस्कृत ग्रंथों का अंग्रेजी में अनुवाद किया, जिससे भारतीय संस्कृति और दर्शन को समझने में मदद मिली।

2. ऐतिहासिक शोध:

प्राच्यविदों ने पूर्वी सभ्यताओं के इतिहास पर व्यापक शोध किया। उन्होंने प्राचीन साम्राज्यों, राजवंशों और सांस्कृतिक विकास पर प्रकाश डालते हुए भारतीय उपमहाद्वीप, मध्य पूर्व और अन्य क्षेत्रों के ऐतिहासिक अभिलेखों की खोज की। उनके काम से भारत, फारस और मिस्र जैसे क्षेत्रों के इतिहास के पुनर्निर्माण में मदद मिली।

3. सांस्कृतिक अध्ययन:

 प्राच्यवादियों ने पूर्वी संस्कृतियों के अध्ययन को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने यूरोपीय लोगों को पूर्वी कला, संगीत, धर्म और दर्शन की गहरी समझ हासिल करने में मदद की। इससे पूर्व की समृद्ध और विविध सांस्कृतिक परंपराओं की अधिक सराहना हुई।

4. पुरातत्व और मानवविज्ञान:

प्राच्यविदों ने पुरातत्व और मानवविज्ञान के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान दिया। उन्होंने पुरातात्विक अभियानों में भाग लिया और प्राचीन खंडहरों, कलाकृतियों और सांस्कृतिक अवशेषों का पता लगाया, जिससे पूर्व के इतिहास और समाजों में मूल्यवान अंतर्दृष्टि प्रदान की गई।

5. कानून और न्यायशास्त्र:

प्राच्यविदों ने पूर्वी कानूनी प्रणालियों के अध्ययन में योगदान दिया। उन्होंने प्राचीन कानूनी ग्रंथों का अनुवाद और विश्लेषण किया, जिससे कानूनी परंपराओं के तुलनात्मक अध्ययन की अनुमति मिली। यह कार्य यूरोपीय उपनिवेशों में कानूनी और न्यायिक प्रणालियों के विकास में प्रभावशाली था।

6. भाषाविज्ञान एवं भाषाविज्ञान:

प्राच्यवादियों ने भाषाओं और भाषाशास्त्र के अध्ययन में महत्वपूर्ण प्रगति की। उन्होंने भाषाओं के तुलनात्मक अध्ययन को विकसित करने में मदद की, जिसने आधुनिक भाषाविज्ञान की नींव रखी। उनके काम ने पूर्व में भाषाओं के ऐतिहासिक विकास की बेहतर समझ में भी योगदान दिया।

7. धार्मिक अध्ययन:

प्राच्यवादियों ने पूर्वी धर्मों के अध्ययन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उनके काम में धार्मिक ग्रंथों का अनुवाद, तुलनात्मक धार्मिक अध्ययन और धार्मिक प्रथाओं की परीक्षा शामिल थी। इससे पश्चिम में हिंदू धर्म, बौद्ध धर्म, इस्लाम और पारसी धर्म जैसे धर्मों की समझ काफी समृद्ध हुई।

8. औपनिवेशिक प्रशासन:

प्राच्यविदों द्वारा अर्जित ज्ञान का उपयोग अक्सर यूरोपीय औपनिवेशिक प्रशासन द्वारा किया जाता था। उन्होंने उपनिवेशित क्षेत्रों की संस्कृतियों और समाजों को नियंत्रित करने और समझने में सहायता की, जो अक्सर पितृसत्तात्मक होते हुए भी कुछ सांस्कृतिक पहलुओं के संरक्षण में योगदान देते थे।

9. पार-सांस्कृतिक समझ को बढ़ावा देना:

    प्राच्यवादियों ने, पूर्वी और पश्चिमी संस्कृतियों के बीच की खाई को पाटकर, अंतर-सांस्कृतिक समझ को बढ़ावा दिया। उनके काम ने रूढ़ियों और गलतफहमियों को चुनौती दी, पूर्वी सभ्यताओं पर अधिक सूक्ष्म और जानकारीपूर्ण दृष्टिकोण को बढ़ावा दिया।


4. 19वीं सदी में शिक्षा नीति की बहस पर टिप्पणी कीजिए ( 10 Marks )

Ans

19वीं सदी में शिक्षा नीति पर बहस संयुक्त राज्य अमेरिका और कई यूरोपीय देशों सहित कई देशों में एक महत्वपूर्ण और विवादास्पद मुद्दा थी। यह अवधि आधुनिक शैक्षिक प्रणालियों के विकास और शिक्षा में राज्य की भूमिका में एक महत्वपूर्ण मोड़ साबित हुई। इस बहस के कई प्रमुख पहलुओं में शामिल हैं:

1. धार्मिक बनाम धर्मनिरपेक्ष शिक्षा:

प्राथमिक बहसों में से एक शिक्षा की धार्मिक या धर्मनिरपेक्ष प्रकृति के इर्द-गिर्द घूमती रही। कई शैक्षणिक प्रणालियाँ पारंपरिक रूप से धार्मिक संस्थानों द्वारा नियंत्रित की जाती थीं। 19वीं शताब्दी में, शिक्षा में धर्मनिरपेक्षीकरण और चर्च और राज्य को अलग करने पर ज़ोर बढ़ रहा था। इस बहस का पाठ्यक्रम, स्कूलों पर नियंत्रण और धार्मिक संस्थानों और राज्य के बीच संबंधों पर गहरा प्रभाव पड़ा।

2. राज्य की भूमिका:

19वीं सदी में शिक्षा के क्षेत्र में राज्य की भूमिका में बदलाव देखा गया। सरकारों ने शिक्षा के वित्तपोषण, विनियमन और प्रदान करने में अधिक सक्रिय भूमिका निभानी शुरू कर दी। इस बदलाव ने सभी नागरिकों के लिए शिक्षा तक पहुंच सुनिश्चित करने की राज्य की ज़िम्मेदारी के साथ-साथ शिक्षा की सामग्री और दिशा को प्रभावित करने की उसकी शक्ति पर सवाल उठाए।

3. सार्वभौमिक बनाम चयनात्मक शिक्षा:

एक और महत्वपूर्ण बहस यह थी कि क्या शिक्षा सभी नागरिकों के लिए सार्वभौमिक और अनिवार्य होनी चाहिए या चयनात्मक और योग्यता या सामाजिक वर्ग पर आधारित होनी चाहिए। सार्वभौमिक शिक्षा के समर्थकों ने सभी के लिए समान अवसरों के लिए तर्क दिया, जबकि विरोधियों का मानना था कि शिक्षा को अभिजात वर्ग या सबसे सक्षम समझे जाने वाले लोगों के लिए आरक्षित किया जाना चाहिए।

4. पाठ्यचर्या और शिक्षाशास्त्र:

19वीं सदी में पाठ्यक्रम और शैक्षणिक तरीकों के बारे में चर्चा हुई। पारंपरिक शिक्षा अक्सर शास्त्रीय विषयों और रटने पर केंद्रित होती है। सुधारकों ने अधिक व्यावहारिक और आधुनिक विषयों, जैसे विज्ञान और व्यावसायिक प्रशिक्षण, साथ ही नवीन शिक्षण विधियों की वकालत की।

5. महिला शिक्षा

शिक्षा में महिलाओं की भूमिका बहस का एक महत्वपूर्ण पहलू थी। महिला शिक्षा की वकालत करने वालों ने स्कूली शिक्षा तक अधिक पहुंच और महिलाओं के लिए शैक्षिक अवसरों के विस्तार की वकालत की। लैंगिक समानता और महिलाओं के अधिकारों की लड़ाई में यह एक महत्वपूर्ण कदम था।

6. निर्देश की भाषा:

बहुभाषी समाजों में, शिक्षा की भाषा का चुनाव बहस का विषय था। स्कूलों में किस भाषा(भाषाओं) का उपयोग किया जाएगा, इसके निर्णय में सांस्कृतिक, राजनीतिक और पहचान संबंधी निहितार्थ होते थे।

7. निजी बनाम सार्वजनिक शिक्षा:

निजी और सार्वजनिक शिक्षा की सापेक्ष खूबियों पर बहस 19वीं सदी में भी प्रमुख थी। निजी शिक्षा के समर्थकों ने व्यक्तिगत पसंद और माता-पिता के नियंत्रण के महत्व पर तर्क दिया, जबकि सार्वजनिक शिक्षा के समर्थकों ने इसे एक मानकीकृत और न्यायसंगत प्रणाली सुनिश्चित करने के साधन के रूप में देखा।

8. फंडिंग और पहुंच:

स्कूलों की फंडिंग और शिक्षा की पहुंच पर विवाद आम थे। इस बारे में प्रश्न कि क्या शिक्षा को सार्वजनिक रूप से वित्त पोषित किया जाना चाहिए और क्या यह मुफ़्त होनी चाहिए या ट्यूशन की आवश्यकता होनी चाहिए, बहस के केंद्र में थे। जातीय और नस्लीय अल्पसंख्यकों सहित हाशिए पर और वंचित समूहों के लिए शिक्षा तक पहुंच भी एक महत्वपूर्ण चिंता का विषय थी।

9. औपनिवेशिक और शाही शिक्षा:

उपनिवेशवाद और साम्राज्यवाद के संदर्भ में, शिक्षा नीति पर बहस सांस्कृतिक अस्मिता के मुद्दों और शाही नियंत्रण के रखरखाव में शिक्षा की भूमिका तक फैल गई। कई औपनिवेशिक शक्तियों ने अपनी संस्कृति और मूल्यों को फैलाने के लिए शिक्षा को एक उपकरण के रूप में इस्तेमाल किया।

10. विचारधारा और दर्शन की भूमिका:

शिक्षा नीति को आकार देने में वैचारिक और दार्शनिक बहसों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। विभिन्न राजनीतिक और दार्शनिक आंदोलनों ने शिक्षा प्रणालियों की दिशा और उद्देश्यों को प्रभावित किया। उदाहरण के लिए, विभिन्न शिक्षा नीतियों में प्रबुद्धता के विचारों, राष्ट्रवाद और उदारवाद का प्रभाव देखा जा सकता है।


5. भारतीय संविधान को आकार देने में संविधान सभा की क्‍या भूमिका थी? ( 10 Marks )
Ans
भारत की संविधान सभा ने भारतीय संविधान को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, जिसे अक्सर दुनिया के सबसे व्यापक और दूरदर्शी दस्तावेजों में से एक माना जाता है। 299 सदस्यों वाली यह सभा भारत के संविधान को तैयार करने और अपनाने के लिए जिम्मेदार थी, जो 26 जनवरी 1950 को लागू हुई। संविधान सभा की भूमिका बहुआयामी थी और भारतीय संविधान को निम्नलिखित तरीकों से आकार देने में सहायक थी:

1. संविधान का प्रारूप तैयार करना और तैयार करना:

संविधान सभा की प्राथमिक भूमिका संविधान का मसौदा तैयार करना था। इसने कई समितियों का गठन करके इसे हासिल किया, जिनमें से सबसे महत्वपूर्ण डॉ. बी.आर. की अध्यक्षता वाली मसौदा समिति थी। अम्बेडकर। मसौदा समिति को संविधान का प्रारंभिक मसौदा तैयार करने का काम सौंपा गया था। विधानसभा के सदस्यों ने संवैधानिक प्रावधानों को अंतिम रूप देने के लिए व्यापक बहस और चर्चाओं में भाग लिया, यह सुनिश्चित करते हुए कि वे एक विविध राष्ट्र की आकांक्षाओं और मूल्यों को प्रतिबिंबित करते हैं।

2. अंतर्राष्ट्रीय और ऐतिहासिक स्रोतों से चित्रण:

संविधान सभा ने विभिन्न स्रोतों से प्रेरणा ली, जिनमें अन्य देशों के संविधान, ऐतिहासिक कानूनी दस्तावेज़ और भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के आदर्श शामिल थे। लोकतंत्र, मौलिक अधिकार और शक्तियों के पृथक्करण जैसी अवधारणाओं को संविधान में शामिल किया गया, जो वैश्विक सर्वोत्तम प्रथाओं और उन्हें भारतीय संदर्भ में अनुकूलित करने की आवश्यकता को दर्शाता है।

3. मौलिक अधिकारों का संरक्षण:

सभा ने मौलिक अधिकारों और स्वतंत्रता की सुरक्षा पर महत्वपूर्ण जोर दिया। सभा के भीतर होने वाली बहसें और विचार-विमर्श इन अधिकारों के दायरे और सीमाओं को निर्धारित करने में सहायक थे। सभा के प्रयासों की परिणति भारतीय संविधान के भाग III में हुई, जो मौलिक अधिकारों की एक व्यापक सूची प्रदान करता है।

4. सामाजिक न्याय सुनिश्चित करना:

संविधान सभा भारतीय समाज में व्याप्त ऐतिहासिक असमानताओं और अन्यायों को दूर करने के लिए गहराई से प्रतिबद्ध थी। इसमें शिक्षा, रोजगार और राजनीतिक प्रतिनिधित्व में हाशिये पर पड़े और वंचित समूहों, जिन्हें अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के नाम से जाना जाता है, के लिए आरक्षण के माध्यम से सकारात्मक कार्रवाई के प्रावधान शामिल थे।

5. संघवाद को बढ़ावा देना:

सभा ने केंद्र सरकार और राज्यों के बीच शक्तियों के वितरण को सावधानीपूर्वक संतुलित किया। भारतीय संविधान एक मजबूत एकात्मक पूर्वाग्रह के साथ एक संघीय प्रणाली स्थापित करता है, जो यह सुनिश्चित करता है कि केंद्र और राज्य दोनों के पास परिभाषित शक्तियां और जिम्मेदारियां हैं। यह विविधता का सम्मान करते हुए एकता को बढ़ावा देने की विधानसभा की प्रतिबद्धता को दर्शाता है।

6. धर्मनिरपेक्षता और धार्मिक स्वतंत्रता:

संविधान सभा ने भारतीय संविधान में धर्मनिरपेक्षता और धार्मिक स्वतंत्रता को शामिल करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। सभा के सदस्यों ने देश की धार्मिक और सांस्कृतिक विविधता को पहचाना और सभी धार्मिक समुदायों के अधिकारों और स्वतंत्रता की रक्षा करने का लक्ष्य रखा।

7. बहस और आम सहमति बनाना:

सभा संविधान के विभिन्न प्रावधानों पर व्यापक बहस और चर्चा में लगी रही। ये बहसें असेंबली के काम का एक महत्वपूर्ण पहलू थीं, क्योंकि उन्होंने विभिन्न दृष्टिकोणों की खोज और विभिन्न पृष्ठभूमि और विचारधाराओं के सदस्यों के बीच व्यापक सहमति के विकास की अनुमति दी थी।

8. संघर्षों और समझौतों का समाधान:

 सभा भाषा और क्षेत्रीय विवादों जैसे विवादास्पद मुद्दों और संघर्षों से जूझती रही। सदस्यों को अक्सर विविध भाषाई, सांस्कृतिक और क्षेत्रीय हितों को समायोजित करने के लिए समझौते करने की आवश्यकता होती थी। संविधान को आकार देने में असेंबली की बातचीत करने और आम जमीन खोजने की क्षमता महत्वपूर्ण थी।

9. दीर्घकालिक दृष्टिकोण:

संविधान सभा के पास भारत के लिए एक दीर्घकालिक दृष्टिकोण था। इसने एक जीवंत दस्तावेज़ बनाने का प्रयास किया जो राष्ट्र की उभरती जरूरतों और चुनौतियों के अनुकूल हो सके। संविधान में संशोधन के प्रावधान हैं, जो बदलती परिस्थितियों को प्रतिबिंबित करने के लिए किए जा सकते हैं।

10. अनुमोदन और अंगीकरण:

कई वर्षों के कठोर विचार-विमर्श के बाद, अंततः 26 जनवरी, 1950 को भारतीय संविधान को अपनाया गया, जो भारत के एक गणतंत्र में परिवर्तन का प्रतीक था। यह तिथि भारत में प्रतिवर्ष गणतंत्र दिवस के रूप में मनाई जाती है।


सत्रीय कार्य - III

निम्नलिखित लघु श्रेणी प्रश्नों के उत्तर लगभग 100 शब्दों (प्रत्येक) में दीजिए। प्रत्येक प्रश्न 6 अंकों का है।

6. स्थायी बंदोबस्त ( 6 Marks )

उत्तर:
स्थायी बंदोबस्त, जिसे बंगाल के स्थायी बंदोबस्त के रूप में भी जाना जाता है, 1793 में ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा बंगाल प्रेसीडेंसी में शुरू की गई एक महत्वपूर्ण राजस्व प्रणाली थी, जिसमें वर्तमान पश्चिम बंगाल, बांग्लादेश और बिहार के कुछ हिस्से शामिल थे। लॉर्ड कॉर्नवालिस द्वारा तैयार की गई इस प्रणाली का उद्देश्य भूमि राजस्व दरों को स्थायी रूप से तय करके एक स्थिर राजस्व संग्रह प्रणाली बनाना था। जमींदारों के रूप में जाने जाने वाले भूस्वामियों को ब्रिटिश सरकार को एक निश्चित भुगतान के बदले में राजस्व इकट्ठा करने का वंशानुगत अधिकार दिया गया था।


7. 18वीं शताब्दी में हैदराबाद राज्य का गठन ( 6 Marks )

उत्तर:

18वीं शताब्दी में, दक्षिण भारत में हैदराबाद क्षेत्र में हैदराबाद रियासत का गठन हुआ, जिसे आसफ जाही राजवंश के नाम से जाना जाता है। राज्य की स्थापना 1724 में हुई थी जब मुगल सम्राट ने निज़ाम-उल-मुल्क को दक्कन का राज्यपाल नियुक्त किया था। हैदराबाद के निज़ाम प्रभावी रूप से स्वतंत्र शासक बन गए और एक अलग राज्य बनाया।
हैदराबाद की विशेषता समृद्ध सांस्कृतिक और भाषाई विविधता थी, जिसमें तेलुगु, मराठी और उर्दू प्रमुख भाषाएँ थीं। निज़ाम अपने प्रशासनिक कौशल और कला और संस्कृति के संरक्षण के लिए जाने जाते थे। व्यापार, कृषि और उद्योग पर आधारित संपन्न अर्थव्यवस्था के साथ यह क्षेत्र आर्थिक रूप से भी महत्वपूर्ण था।

8. भारत में उपयोगितावादी  ( 6 Marks )
उत्तर:

उपयोगितावाद, एक नैतिक और राजनीतिक दर्शन, का औपनिवेशिक काल के दौरान भारत में ब्रिटिश नीतियों पर प्रभाव पड़ा। उपयोगितावादी समाज की समग्र खुशी को अधिकतम करने में विश्वास करते थे और अक्सर सबसे बड़ी संख्या के लिए अधिकतम भलाई पर आधारित नीतियों की वकालत करते थे। भारत में, इस दर्शन ने शासन के कुछ पहलुओं को प्रभावित किया।
जेम्स मिल और उनके बेटे जॉन स्टुअर्ट मिल जैसे उपयोगितावादियों ने भारत के प्रति ब्रिटिश नीतियों को आकार देने में भूमिका निभाई, विशेष रूप से शिक्षा, प्रशासन और कानून के क्षेत्रों में। उन्होंने पश्चिमी शिक्षा को बढ़ावा देने, कानूनों के संहिताकरण और प्रशासन की उपयोगितावादी प्रणाली की स्थापना के लिए तर्क दिया।


9. साम्प्रदायिकता ( 6 Marks )
उत्तर:

सांप्रदायिकता एक शब्द है जिसका उपयोग धार्मिक या सांप्रदायिक आधार पर व्यक्तियों की पहचान और संगठन का वर्णन करने के लिए किया जाता है, जिससे अक्सर विभिन्न धार्मिक समुदायों के बीच तनाव और संघर्ष होता है। भारतीय संदर्भ में सांप्रदायिकता एक महत्वपूर्ण सामाजिक-राजनीतिक मुद्दा रहा है।
औपनिवेशिक काल के दौरान, विशेषकर ब्रिटिश "फूट डालो और राज करो" नीतियों के परिणामस्वरूप सांप्रदायिकता ने जड़ें जमानी शुरू कर दीं। 1905 में बंगाल के विभाजन और उसके बाद हुए स्वदेशी आंदोलन के कारण धार्मिक ध्रुवीकरण हुआ और सांप्रदायिक तनाव बढ़ गया। 1947 में भारत का भारत और पाकिस्तान में विभाजन सांप्रदायिकता का प्रत्यक्ष परिणाम था, जिसके परिणामस्वरूप इतिहास में सबसे बड़ा प्रवासन और त्रासदियों में से एक हुआ।


10. सत्ता का हस्तान्तरण ( 6 Marks )
उत्तर:
"सत्ता का हस्तांतरण" ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन से भारतीय स्व-शासन में राजनीतिक नियंत्रण और शासन को स्थानांतरित करने की प्रक्रिया को संदर्भित करता है। यह परिवर्तन 1947 में हुआ जब भारत को ब्रिटिश शासन से आजादी मिली। सत्ता के इस हस्तांतरण को चिह्नित करने वाली प्रमुख घटनाएं भारतीय नेताओं और ब्रिटिश सरकार के बीच बातचीत, भारत का भारत और पाकिस्तान में विभाजन और ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन का अंत थीं।
यह प्रक्रिया कैबिनेट मिशन योजना (1946) द्वारा शुरू की गई और माउंटबेटन योजना और भारतीय स्वतंत्रता अधिनियम (1947) के साथ समाप्त हुई। 15 अगस्त, 1947 को, भारत एक स्वतंत्र राष्ट्र बन गया और अंतिम ब्रिटिश वायसराय, लॉर्ड लुईस माउंटबेटन ने भारत छोड़ दिया, जो औपनिवेशिक शासन के आधिकारिक अंत का प्रतीक था।

( Legal Notice )

This is copyrighted content of www.ignoufreeassignment.com and meant for Students and individual use only. 
Mass distribution in any format is strictly prohibited. 
We are serving Legal Notices and asking for compensation to App, Website, Video, Google Drive, YouTube, Facebook, Telegram Channels etc distributing this content without our permission. 
If you find similar content anywhere else, mail us at eklavyasnatak@gmail.com. We will take strict legal action against  them.

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Comments

Ad Code

Responsive Advertisement